Connect with us

लाइफस्टाइल

शादी के दिन ही पीरियड आ गए हों तो अपनाये ये रामबाण घरेलु नुक्खा

लाइफस्टाइल। शादी की पूरी तैयारियां हो गई हैं लेकिन यह क्‍या शादी की तैयारियों में एक खास बात का यानी पीरियड की डेट के बारे में ख्याल ही उतर गया और यह क्‍या शादी के दिन ही हो गये पीरियड,अब क्‍या पीरियड को जल्‍दी या लेट करवाने का समय भी निकल चुका है, अब क्या किया जाए। भाव्या की तरह कई लड़कियों को शादी के दिन इस समस्‍या का सामना करना पड़ता है।

saadi-ke-din-hi-periods-aa-gaye-to-apnaye-ye-gharelu-nukkha-hindi

शादी के दिन पीरियड्स होने पर चिंता में पड़ जाना बहुत ही सामान्य बात है। यदि भाव्या की तरह आपके साथ भी कुछ ऐसी ही स्थिति उत्पन्न हो गई है तो चिंता की कोई बात नहीं, आज हम आपको कुछ ऐसे आसान से उपाय बताने जा रहे हैं जो आपको इस परेशानी से निकलने में काफी काम आएगें। तो आइये जानते हैं।

शादी के दिन ही आ गये पीरियड्स तो अपनाये ये रामबाण घरेलु नुक्खा-

शादी की रस्‍मों के लिए में आपको घंटों बैठे रहना पड़ सकता है, हो सकता है कि ऐसे में पैड पहनकर आपको कंफर्ट महसूस ना हो। और पैड कुछ ही समय में नम भी हो जाते हैं। इसलिए पैड की जगह टैम्‍पून का इस्‍तेमाल करें। यह इस्‍तेमाल में अधिक आसान और झंझट मुक्‍त होता है।

लेकिन अगर आपको टैम्‍पून इस्‍तेमाल करने पर कंफर्ट महसूस नहीं हो रहा तो लंबे समय तक चलने वाले अच्‍छे पैड्स का इस्‍तेमाल करें, या फिर आप एक साथ दो पैड का इस्‍तेमाल भी कर सकती हैं। यह एक सुरक्षित विकल्प है और आपको अपने खूबसूरत लहंगे पर दाग लग जाने का डर भी नहीं रहेगा।

saadi-ke-din-hi-periods-aa-gaye-to-apnaye-ye-gharelu-nukkha-hindiअगर आपको भी पीरियड्स के दौरान पेट में दर्द की शिकायत रहती है, इसलिए शादी के दिन दर्द से बचने के लिए अपने पास पेनकिलर जरूर रखें ताकि जीवन का सबसे महत्वपूर्ण दिन आप दर्द और बेचैनी में ना बिताएं।

पीरियड्स के दिनों में पिंपल्‍स का निकलना बहुत ही आम होता है। इनसे निपटने के लिए आप मुहांसों पर टूथपेस्ट लगाकर सूजन को काफी कम कर सकती हैं, इन पर बर्फ लगाना भी चमत्कारिक असर करता है। इसके अलावा आप अपनी ब्‍यूटीशियन को फाउंडेशन की मदद से इसे छुपाने के लिए भी कह सकती है।

पीरियड के दौरान ज्यादातर लड़कियों के पैरों, कमर, पेट और कूल्हों में दर्द होता है, इसलिए दर्द से बचने के लिए कम हील पहनने की ही कोशिश करें।



अपनी बहन या सहेली से दवाईयां और पैड्स रखने के लिए कहें क्योंकि वो आपके अगल-बगल ही रहेगी जिससे कोई भी परेशानी होने पर आप उनकी मदद ले सकें।

वैसे तो इस मौके पर बार-बार उठकर जाना थोड़ा मुश्किल होगा क्‍योंकि सभी की नजरें आप पर टिकी होती है। लेकिन आप अपनी बहन या सहेली से कहें कि वह कुछ न कुछ बहाना बनाकर आपको बाथरूम जाने में मदद करे।

अगर शादी के दिन आप इस समस्या से जूझ रही हैं तो ये सभी उपाय आपके इस महत्वपूर्ण दिन को और भी यादगार बना देंगे। आप व्यर्थ की चिंताओं से मुक्त होकर इस दिन का पूरा आनंद उठा सकती हैं

इसे भी पढ़ें-

Advertisement
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

लाइफस्टाइल

प्रतिदिन पीये तुलसी वाला दूध तो छूमंतर हो सकती हैं ये बीमारियां!

having-basil-milk-on-a-daily-basis-will-give-you-these-amazing-health-benefits

लाइफस्टाइल। दूध का सेवन तो सभी करते हैं लेकिन कुछ लोगों को दूध पीना पसंद नहीं होता। जैसा की सभी जानते हैं कि, दूध हमारे शारीर के लिए कितना पोष्टिक होता है दूध में कैल्शियम और मैग्निशियम पाया जाता है जिससे हड्डियों को मजबूती मिलती है। रोजाना अपने एक गिलास दूध में कुछ तुलसी के पत्ते मिला दिए जायें तो इस दूध के फायदे और ज्यादा बढ़ जाते हैं।

दूध तो पोष्टिक होता है लेकिन तुलसी एक औषधि है और जब दोनों को मिलकर पिया जाए तो कई बिमारियों से छुटकारा पाया जा सकता है। कैसे ? चलिए जानते हैं दूध में तुलसी मिलकर पीने के फायदे…

दूध में तुलसी मिलकर पीने के फायदे

तुलसी में एंटीऑक्सीडैंट और एंटीबायोटिक के गुण पाए जाते हैं और ऐसे में दूध में कुछ तुलसी के पत्ते मिलाकर पीने से कैंसर जैसी गंभीर बीमारी आपसे दूर रह सकती है और शरीर की रोग-प्रतिरोधक क्षमता बेहतर बनती है।

having-basil-milk-on-a-daily-basis-will-give-you-these-amazing-health-benefits

तुलसी में मौजूद एंटी-इन्फ्लेमेट्री तत्वों से फ्लू के लक्षणों को नष्ट करने में मदद मिलती है।जिन लोगों को पथरी की समस्या है अगर वो रोज सुबह तुलसी वाला दूध पीते हैं तो किडनी का स्टोन धीरे-धीरे गलने लगता है और कुछ समय बाद पथरी मुक्ति मिल जाती है।

आजकल की भागदौड़ की ज़िंदगी में तनाव बहुत है और ऐसे में अगर अप तुलसी वाला दूध पीते हैं तो नर्वस सिस्टम को आराम मिलता है और स्ट्रेस हारमोंस भी नियंत्रित रहता है।कुछ लोगों को अक्सर ही सिरदर्द की समस्या होती है जिससे वो परेशान हो जाते हैं



ऐसे में दूध में तुलसी मिलकर पीने से सिरदर्द की समस्या से निजात पा सकते हैं।देखा आपने दूध में तुलसी मिलकर पीने से कितने फायदे होते हैं अगर बीमारियों से खुद को बचाना चाहते हैं तो आज से पीना शुरू करें तुलसी वाला दूध।

इसे भी पढ़ें-

 

Continue Reading

लाइफस्टाइल

जो लोग अधिक मीठा खाते है वह इस खबर को जरुर पढ़ें,वरना पछताओगे

sehat-benefits-side-effects-of-eating-too-much-sugar-in-hindi

लाइफस्टाइल। लोगो मीठा खाने में कोई कसार नहीं छोड़ते है चाहे साडी हो या पार्टी सभी जगह मीठा खाते और बहुत से लोग मीठा ज्यादा खाना पसंद करते है और बहुत से लोग नमकीन ज्यादा खाना पसंद करते है, लेकिन जरुरत से ज्यादा खाया जाए तो वह बहुत नुकसानदायक हो सकता है, आज आपको बताते है की जरुरत से ज्यादा मीठा खाने के नुक्सान के बारे

अधिक मीठा खाने के 4 नुक्सान:-

sehat-benefits-side-effects-of-eating-too-much-sugar-in-hindi

1. दिल का दौरा- अधिक मात्रा मतलब जरुरत से ज्यादा मीठा खाने से दिल का दौरा भी पड़ सकता है, जो लोग एक दिन में एक से ज्यादा सॉफ्ट ड्रिंक लेते हैं उन्हें मेटाबॉलिक सिंड्रोम की समस्या हो सकती है, तो जितनी जरुरत हो उतना ही मीठा खाएं, जरुरत से ज्यादा मीठा ना खाएं।

2. वजन बढ़ता है- मीठा खाने से वजन बढ़ता है और वजन बढे से बहुत सी बीमारियाँ होने लगती है जैसे की हाइपरटेंशन, ह्रदयरोग आदि।



3. डायबिटीज- जरुरत से ज्यादा मीठा न खाएं नहीं तो डायबिटीज हो सकती है, डायबिटीज बिमारी 2 कारणों से होती है, अधिक मात्रा में मीठा खाने से और दूसरा अनुवांशिक, अधिक मीठा खाने से ब्लड में सुगर लेवल ज्यादा हो जाता है जिसकी वजह से डायबिटीज हो जाती है।

sehat-benefits-side-effects-of-eating-too-much-sugar-in-hindi

4. कोलेस्ट्रोल- ज्यादा मीठा खाने से कोलेस्ट्रोल बहुत जल्दी बढ़ने लगता है, जिससें दिल की बीमारी हो सकती है, अधिक मीठा खाने से दिमाग पर भी असर पड़ता है और अल्जाइमर्स हो सकता है, और इसके लक्षण होते है याददाश्त कमज़ोर होना और निर्णय न ले पाना।

इसे भी पढ़ें-

Continue Reading

लाइफस्टाइल

भारती गुरु | भुजंग आसन करने के फायदे जानिए विस्तार से रामबाण उपाय

bharti-guru-yoga-tips-bhujangasana-health-benefits-in-hindi

लाइफस्टाइल योग। योग एक ऐसी वैज्ञानिक क्रिया है, जिससे हम विभिन्न आसन अर्थात मुद्राओं के द्वारा अपनी पूरी बॉडी को रेगुलेट कर सकते हैं। आज हम आपको ऐसे ही एक महत्वपूर्ण योगासन के बारे में बताएंगे, जिसे करने के अनगिनत फायदे होते हैं। जी हां उस आसन का नाम है, भुजंग आसन। जिसे अंग्रेजी में कोब्रा पोज भी कहा जाता है। इस आसन का शाब्दिक अर्थ होता है, सर्प के फन के समान मुद्रा। तो आइए जानते हैं इसे करने की विधि और इससे होने वाले फायदे के बारे में….

bharti-guru-yoga-tips-bhujangasana-health-benefits-in-hindi

भुजंग आसन करने के फायदे जानिए विस्तार से,

इस योग आसन को करने के लिए किसी समतल पर पेट के बल इस प्रकार लेट जाएं कि आपकी ठुड्डी जमीन से सटी हुई हो। इसके बाद दोनों हाथों को जमीन से टिका कर स्थिर रखें। अब दोनों हाथों पर जोर देकर सांसें अंदर की ओर लेते हुए शरीर के अगले हिस्से को धीरे-धीरे ऊपर उठाएं। इसी पोजीशन में थोड़ी देर कुछ सेकंड रुक कर फिर सांस छोड़ते हुए शरीर को नीचे लेकर आएं। इस प्रक्रिया को कुछ समय तक दोहराते रहें। आगे आप जानेंगे कि इस भुजंग आसन से क्या-क्या फायदे होते हैं?



भुजंग आसन से कंधे, सीने,पीठ और पेट की मांसपेशियों में जो खिंचाव पैदा होता है, उससे हमारे शरीर को और अधिक लचीलापन एवं मजबूती मिलती है। इसके अलावा इससे हमारी स्पाइन यानी रीढ की हड्डी और शरीर के अन्य जोड़ों से जुड़ी समस्या दूर हो जाती है। इतना हीं नहीं इससे हमारा पाचन तंत्र और किडनी भी स्वस्थ रहते हैं। यह योग मानसिक तनाव और शारीरिक थकान को दूर करने में भी बहुत उपयोगी है।bharti-guru-yoga-tips-bhujangasana-health-benefits-in-hindi

इस आसन के प्रभाव से महिलाओं के मासिक नियम से जुड़ी अनियमितता भी दूर हो जाती है। यदि किसी व्यक्ति को श्वास से जुड़ी परेशानी जैसे दमा आदि है तो उनके लिए यह योग आसन वरदान के समान है। भुजंग आसन के ओवरऑल इंपैक्ट से हमारे शरीर का ब्लड सर्कुलेशन भी नॉर्मल हो जाता है। जिससे नस और ह्रदय संबंधी समस्या कभी उत्पन्न नहीं होती।

इसे भी पढ़ें-

Continue Reading
Advertisement
Advertisement

ट्रेंडिंग